आईपीएल 2021 : BCCI ने दी खिलाड़ियों के बबल टू बबल स्थानांतरण की अनुमति | All you need to know about IPL SOP’s

  • Post category:News

बीसीसीआई यानी कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने आगामी आईपीएल सीजन के लिए बबल से बबल ट्रांसफर करने के लिए हामी भर दी है। उसका कहना है कि डाक्यूमेंट्स में स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एस ओ पी) के साथ-साथ बायो सिक्योर प्रोटोकॉल को लिस्टेड भी किया जाएगा, जिसपर खिलाड़ियों का कहना था कि उनकी राष्ट्रीय टीम के बबल से सीधे फ्रेंचाइजी भवन में जा सकता है।

(IPL)

बीसीसीआई का कहना है कि भारत और इंग्लैंड के खिलाड़ी अपने आईपीएल बुलबुले में बिना किसी क्वॉरेंटाइन पीरियड के आसानी से पास ले सकते हैं। बीसीसीआई ने क्रिकबज द्वारा देखे गए एक नोट में कहा है कि इसके लिए सिर्फ शर्त यह रखी गई है कि फ्रेंचाइजी टीम होटल या टीम बस में जाने के सभी ऑर्डर को पूरा कर सकें। 

इसके अलावा बीसीसीआई ने कहा है कि चार्टर्ड उड़ानों के उपयोग से चालक दल के मेंबर्स के लिए भी सभी प्रोटोकॉल को माना जाएगा। इसमें ऐसे ही फ्रेंचाइजी टीम बबल में आएंगे जो क्वॉरेंटाइन पीरियड के बिना आसानी से जा सकें।

देखा जाए तो राहत सिर्फ दक्षिण अफ्रीका पाकिस्तान सीरीज में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों के लिए है। फ्रेंचाइजी के अधिकारियों ने यह भी कहा है कि जब तक वह चार्टर्ड फ्लाइट से उड़ान भर रहे हैं तभी तक उनपर बबल टू बबल ट्रांसफर के नियम लागू हो सकेंगे।

अब तक कुल मिलाकर 12 बबल तैयार किए जाएंगे जिसमें 8 बबल में फ्रेंचाइजी टीम और उनके कर्मचारियों को लिया जाएगा जबकि दो बबल में मैच अधिकारी और मैच प्रबंधन टीम रहेंगे। इसके अलावा प्रसारण और चालक दल के लिए दो बबल को रखा गया है।

इस दौरान बीसीसीआई का कहना है कि प्रत्येक फ्रेंचाइजी टीम के साथ चार सुरक्षाकर्मियों को रखा जाएगा जो वहां के बबल  अखंडता के ऑफिसर होंगे। टीम बबल का हिस्सा होकर वह आई पी एल 2021 के पूरे समय के लिए टीम के साथ बने रहेंगे। यहां टीम के साथ दिए जाने वाले सुरक्षाकर्मियों का काम सिर्फ मेडिकल ऑफिसर्स को फ्रेंचाइजी टीम के मेंबर द्वारा किसी भी प्रकार के जैव सुरक्षित पर्यावरण प्रोटोकॉल से जुड़े उड़ने वाले नियम की रिपोर्ट करनी होगी।

इसके अलावा बीसीसीआई कलाई बैंड के रूप में एक ट्रैकिंग डिवाइस देगा जिसे होटल के साथ-साथ लोगों को पहनना जरूरी होगा। 48 घंटों के दौरान निकट संपर्क में रहने वाले व्यक्तियों का पता लगाने में यह ट्रैकिंग डिवाइस काफी मददगार होगा। किसी भी इंसान के आरटी पीसीआर टेस्ट रिजल्ट देने पर भी यह डिवाइस काफी मददगार साबित होगा।

बीसीसीआई ने इस बात को पूरी तरह से स्पष्ट कर दिया है कि जो लोग लीग में शामिल होना चाहते हैं उनके लिए टीकाकरण की व्यवस्था करना संभव नहीं होगा। वर्तमान में टीका केवल उन्हीं लोगों को दिया जा रहा है, जो 45 और 60 वर्ष की आयु के बीच हैं। इसके अलावा हृदय से जुड़े बीमारियों के अतिरिक्त मधुमेह और कैंसर जैसे रोगों से पीड़ित व्यक्तियों के लिए भी टीकाकरण और SARS-CoV-2 के लिए सावधानी बरती जाएगी।

बीसीसीआई के ऑर्डर की बात की जाए तो इसके अनुसार यदि क्रिकेट गेम्स स्टेडियम या स्टैंड से बाहर की तरफ जाती है तो 4 नंबर वाला अंपायर क्रिकेट गेंदों की लाइब्रेरी से एक प्रतिस्थापन देगा। लीग के पहले चरण के लिए बीसीसीआई ने जो दिशा निर्देश जारी किए हैं, वह मुंबई और चेन्नई में आयोजित होंगे।

कोविड-19 के दौरान देखा गया है कि मुंबई में सात दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन पीरियड से दक्षिण अफ्रीका, यूके, मध्यपूर्व एवं यूरोप से आने वाले यात्रियों को गुजरना होता है। सरकार ने जो आर्डर दिए हैं उससे छूट भी मिल सकती है। लेकिन सरकार से छूट पाने के लिए यह आवश्यक है कि भारतीय राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों से तमिलनाडु में इच्छुक व्यक्ति यदि जातें हैं तो तमिलनाडु सरकार के द्वारा उन्हें ई-पास देनी होगी।

Leave a Reply